कमर दर्द का मुख्य कारण व बचाव हेतु उपचार…

कमर दर्द का कारण

आपने कभी महसूस किया होगा कि रात में आप सामान्य रुप से सोए, लेकिन सुबह उठते ही स्वयं को अच्छे-खासे पीठ या कमर दर्द से पीडित महसूस कर रहे होते हैं । आखिर रात भर में ऐसा क्या हो गया जिससे कि सुबह उठते ही कमर दर्द की तीव्र  पीडा ने अचानक आपको अपनी गिरफ्त में जकड लिया ?

कमर दर्द का मुख्य कारण

इसका एक कारण बाजार में मिलने वाले फोम व कुशन के 4″ से 8″ इंच मोटाई के रेडिमेड गद्दे तो होते ही हैं किंतु इसके साथ ही कई बार नींद में हम जाने-अनजाने अपनी पीठ या कमर को ऐसी मुद्रा में ले आते हैं जो हमारे शरीर की रीढ की ह्ड्डी की सेहत के लिये नुकसानप्रद होती है, कई बार तो धीरे-धीरे उसी मुद्रा में हम स्वयं को ज्यादा आरामप्रद महसूस करने लगते हैं । इससे न सिर्फ कमर दर्द की यह समस्या उत्पन्न होती है बल्कि कई बार यह स्थाई रुप से राजरोग के समान हमारे शरीर को अपनी गिरफ्त में ले लेती है ।

Click & Read Also-

करत-करत अभ्यास के…

दर्द निवारक तेल – जोडों व शरीर दर्द में उपयोगी

ऐसा भी नहीं है कि सिर्फ सोते समय ही हमारे गलत पॉश्चर से यह समस्या उपजती है बल्कि जागृत अवस्था में भी हम किस प्रकार लेटते व बैठते हैं यह स्थितियां भी हमारे कमर दर्द का कारण तो बनती ही है साथ ही समस्या के बढते क्रम में आगे चलकर गर्दन का दर्द और पैरों व घुटनों के स्थाई दर्द का भी यही गलत पॉश्चर सबसे बडा कारण बनता है । 

कमर दर्द से बचाव के लिये

हमें यह समझना आवश्यक होगा कि हमारा बैठने व लेटने (सोने) का ऐसा कौनसा तरीका है जो हमारी शारीरिक संरचना के लिये अनुकूल हो । यह समझ न सिर्फ हमें अपने कमर दर्द बल्कि गर्दन व पैरों के किसी भी दर्द से निजात पाने के लिये न सिर्फ जानना आवश्यक है बल्कि अपने सोने-बैठने के तरीके में अधिकतम अभ्यास के साथ कुर्सी पर या जमीन पर बैठते समय और आराम की मुद्रा में लेटते व सोते समय इसका निरन्तर अभ्यास करते रहना भी आवश्यक है क्योंकि हमारी आदत के कारण ही यह समस्या उत्पन्न होती है और उन आदतों को हम प्रायः जानकारी में आने के बाद भी बगैर बार-बार के अभ्यास के बदल नहीं पाते ।

कमर दर्द से राहत पाने के लिये

सामान्य तौर पर तो जब दर्द होता है तो हमें उपचार खोजना ही पडता है और उपचार के इस क्रम में आवश्कतानुसार कई प्रकार के दर्द निवारक तेल, आयुर्वेदिक लेप व काढे, योगासन, ऐलोपैथिक दर्द निवारक टेबलेट्स, मँहगी जांचें ऐसे कई माध्यम हमारे सामने आते रहते हैं जो कमोबेश राहत भी प्रदान करवाते हैं किंतु समस्या का सम्पूर्ण निराकरण प्रायः नहीं हो पाता है । यदि हम चाहे तो अपने इस कमर दर्द के साथ ही गरदन व घुटनों, पैरों में दर्द की समस्या से राहत पाने के लिये इन सहायक उपायों को अपनाने के साथ ही अपने सोने के गद्दे को रुई की सामान्य मोटाई में बनवाकर काम में लें व इसे प्रति वर्ष नये सिरे से भरवाते रहें और इससे भी आवश्यक रुप से अपने सोने व बैठने की सामान्य मुद्रा को अपने मेरुदंड के अनुकूल बनवाने जैसा अभ्यास नियमित रुप से करते रहें ।

Click & Read Also-

बाधक महारोग – क्या कहेंगे लोग…?

कमर-दर्द (पीठ के दर्द) से बचाव के लिये- 

केल्शियम युक्त – आंवले का मुरब्बा

 

हमारे सोने-बैठने की सही मुद्रा क्या होनी चाहिये इसकी जानकारी आप बाबा रामदेव के इस छोटे से वीडिओ से अवश्य लें-

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.