कोरोना वायरस संक्रमण से अपनी जिंदगी कैसे बचाएँ ?

कोरोना वायरस संक्रमण

इस समय बात देश की हो या दुनिया की सब तरफ सिवाय कोरोना वायरस संक्रमण के निरन्तर बढते भय के और कोई भी मुद्दा फिलहाल दिख नहीं रहा है । वे लोग जो बदकिस्मती से इस बीमारी की गिरफ्त में आ चुके हैं उनका जीवन तो अस्पतालों के भरोसे हो ही गया है,  किंतु वे सभी लोग जो अपने परिवार में या आसपास किसी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज को देख चुके हैं, या मजबूरी में संक्रमणजन्य रोगियों के इलाकों में रह रहे हैं या फिर वे जो संक्रमित रोगियों के किसी भी ज्ञात या अज्ञात माध्यम से इनके संपर्क में आ चुके हैं वे सभी जबर्दस्त भयाक्रांत मानसिकता से गुजर रहे हैं । उन्हें अब अपने बचाव के लिये क्या करना चाहिये इसे समझें-

Click & Read Also-

Corona Virus कोरोना वायरस का कहर बढता ही जा रहा है. 

जीरो ब्लॉक – मधुमेह, ब्लडप्रेशर व ह्रदयरोग को दूर रखने वाली संजीवनी बूटी.

 

कोरोना वायरस संक्रमण के मुख्य लक्षण

कोरोना वायरस संक्रमण

अब तक आपने विभिन्न माध्यमों से यह तो समझ ही लिया होगा कि कोरोना वायरस संक्रमण सबसे पहले रोगी के गले में  3-4 दिन रहता है, इस दौरान उसके गले में दर्द होना प्रारम्भ होता है, फिर वह सूखी खांसी की गिरफ्त में आ जाता है और उसके बाद यह वायरस मरीज के फेफडे में जाकर उसकी श्वास प्रक्रिया को इस सीमा तक बाधित कर देता है कि रोगी आसानी से सांस नहीं ले पाता और वेंटीलेटर जैसे जीवनरक्षक उपकरणों पर आश्रित होने के बावजूद भी यदि वह सीनियर सीटिजन की उम्र में है या उसे पहले से ही मधुमेह (शुगर), ब्लड-प्रेशर या ऐसी ही कोई अन्य बीमारी है तो फिर तमाम उपचार के बावजूद भी उसका जीवन बच पाना मुश्किल होता चला जाता है और वो रोगी बेहद कष्टसाध्य स्थितियों में एक-एक श्वांस के लिये छटपटाते हुए अपना जीवन खो देता है ।

कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिये

यहीं पर आप इसके उपचार की घरेलू पद्धति को अपनाकर अपना स्वयं का व अपने परिजनों का इस कोरोना वायरस संक्रमण से जीवन बचा सकते हैं । जैसा कि हम जानते हैं कि यह वायरस पहले कम से कम 3 से 4 दिन गले में रहकर अपना मुकाम बनाता है और संक्रमण के बाकि असर तक पहुंचने में 10 से 12 दिन भी लगा सकता है अतः इसी अवधि में हम सिर्फ गर्म पानी पीकर, गर्म चाय, गर्म सूप व हल्दी मिश्रित गर्म दूध पीकर इसे नष्ट कर सकते हैं । इस प्रक्रिया में यह वायरस हमारे पेट में उतर जाता है और पेट के पाचक अवयवों के संपर्क में आने पर यह शरीर के अपशिष्ट पदार्थ जैसे मल-मूत्र के द्वारा शरीर से निष्क्रिय अवस्था में रोगी को कोई भी नुकसान पहुंचाये बगैर बाहर हो जाता है ।

अतः कोरोना वायरस संक्रमण से सुरक्षित बचाव के लिये आप दिन में चार बार गर्म पानी पिएँ, एक ग्लास गर्म पानी में एक चम्मच हल्दी, अजवायन, पुदीना व 10-12 तुलसी के पत्तों में जो भी 2-3 वस्तु आसानी से उपलब्ध हो सके उसे डालकर व अच्छी तरह से इसे उबालकर तपेली या लोटे में भरकर एक टॉवेल ओढकर इसकी भाप मुंह व नाक से अपने फेफडों तक दिन में दो बार अंदर लें, गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर रात में सोते समय पिएँ, भोजन में गर्मागर्म सूप अपनी स्वाद व उपलब्धि के अनुसार लौकी, टमाटर या सहजन की फली का बनवाकर लें । आप विश्वास कर सकते हैं कि यदि आप सिर्फ इतनी भी सावधानी रख लेंगे तो आपको यह घातक कोरोना वायरस किसी भी परिस्थिति में कोई भी नुकसान नहीं पहुंचा सकेगा ।

Click & Read Also-

सुखी कौन ? दुःखी कौन ?? 

कोरोना वायरस – ज्योतिषिय नजरिया… 

Tea’s – कार्यस्थल की चाय और प्लास्टिक बैग में पैक होने के नुकसान…

 

यह भी करें कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिये

इसके अलावा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के जो भी उपाय चिकित्सक व प्रशासन इस  हमें बता रहे हैं जैसे हर तीन घंटे में 20 सेकंड तक साबुन से व्यवस्थित हाथ धोते रहना, घर से अनावश्यक बिल्कुल ना निकलना, सोशल डिस्टेंस बनाये रखना व यदि सार्वजनिक रुप से सडक पर निकलना ही पड रहा है तो हेंड सेनेटाईजर व मुंह पर मास्क लगाकर दूसरों से कम से कम 4 फीट की दूरी रखना, लोगों से हाथ ना मिलाना यह तो आपको ध्यान रखना ही है । इसके अलावा तिल या खोपरे के तेल को उंगली में लगाकर अपनी नाक के दोनों नथुनों में नहाने के बाद व सोने से पूर्व अवश्य लगालें इससे आपकी श्वास नली में कोई अवरोध नहीं होगा और वह व्यवस्थित रुप से चलती रहेगी ।

इसके अलावा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिये यहाँ प्रस्तुत वीडिओ देखें और इनके सुझावों को अच्छी तरह से समझ लें-

सावधान रहें – सुरक्षित रहें…

Leave a Reply

Your email address will not be published.