अमृतफल आँवले की औषधिय उपयोगिता…

अमृतफल आँवले के चमत्‍कारिक गुण

अमृतफल आंवले

पुरानी मान्यता है कि जीवन के दु:खों से मुक्ति दिलवा सकने की क्षमता या तो ऊपर मौजूद ईश्वर के अधीन है या नीचे पृथ्वी पर ये क्षमता त्रिदोष-नाशक अमृतफल आंवले के पास है । नाम के अनुसार भी इसे अमृतफल की उपाधि मिली है । वैसे भी आंवले और इस जैसी अनेकों भारतीय जडी-बूटियों में, मनुष्य का काया-कल्प कर सकने की अपार सम्भावनाएँ मौजूद हैं, जिसकी पुष्टि पिछले हजारों वर्षों से  धन्वन्तरी, महर्षि चरक, ऋषि वाग्भट्ट जैसे सिद्धहस्त नाम इन माध्यमों के लाभों से संदर्भित प्रमाणित जानकारियां अपनी-विरासत में छोडकर गये हैं । इनमें अकेले इस अमृतफल आंवले का ही उपयोग करते हुए विभिन्न आयुर्वेदिक फार्मेसी कंपनियां पिछले सेकडों वर्षों से अपना वजूद बनाए कायम दिखती हैं ।

Click & Read Also-

अद्भुत कलाकृतियां… 

जीवन का टॉनिक है – दोस्ती… 

आयुर्वेद की मान्यताओं के मुताबिक हमारे शरीर का कोई भी रोग किसी न किसी रुप में शरीर में मौजूद वात, पित्त या कफ के असंतुलन से ही उपजता है और आँवला एक ऐसा फल है जिसमें मौजूद पोटेशियम, केल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, मैग्नीशियम, आयरन, विटामिन C के साथ ही इसमें डायूरेटिक एसिड, विटामिन ‘एबी’ कॅाम्प्लेक्स सहित अमूल्य खनिज तत्व पाए जाते हैं, जिनमें शरीर के इन तीनों दोषों का शमन कर उन्हें सम स्थिति में लाने में महारथ हासिल है, बात यदि गुणवत्ता के आधार पर की जावे तो अधिकांश जडी-बूटियों को गर्म करने पर उनकी गुणवत्ता घटती है जबकि आँवला ताजा हो या सुखाया हुआ इसे गर्म करने पर भी इसकी गुणवत्ता में कोई कमी नहीं आती ।

यदि हम बाजार में बिक रहे मँहगे से मँहगे आयुर्वेदिक उत्पादनों पर नजर डालें, तो सबसे अधिक मात्रा में आंवले से निर्मित उत्पादन ही देखने में आएँगे । अमृतफल आँवले से निर्मित ये उत्पाद सीजन में उपलब्ध आँवले की, मूल कीमत से पच्चीसों गुना मंहगे मूल्य पर बिकते हैं । अपने विशेष कसैले-खट्टे स्वाद के कारण ये फल, सामान्यजन के कम ही उपयोग में आ पाता है, इसे उपयोग में लेने के लिये इसकी उपलब्धि के मौसम में हमारे भोजन में आंवले की लौंजी,  मुरब्बा या इस जैसे माध्यमों से इसका लाभ लेने की कोशिश की जाती है । आँवले का तैयार मुरब्बा,  कैंडी,  सुपारी,  गटागट, च्यवनप्राश और इस जैसे अनेकों तैयार उत्पाद वर्ष भर बाजारों में बिकते दिखाई देते हैं ।

Click & Read Also-

बेहतर स्वास्थ्य की संजीवनी – त्रिफला चूर्ण. 

आंवले के स्वादिष्ट दीर्घकालिक उपयोग हेतु… 

स्वनिर्मित- सस्ता व स्वास्थ्यप्रद आंवला च्यवनप्राश.

 

आंवले के औषधीय गुण

आयुर्वेद में निरोगी जीवन के लिये सर्वाधिक प्रशंसित यदि किसी उत्पाद की चर्चा की जावे तो त्रिफला चूर्ण का उपयोग एकमत से सामने आता है और उसी त्रिफला का एक महत्वपूर्ण घटक आँवला होता है । इतने बहुउपयोगी आँवले की समूचि उपयोगिता चाहे स्वाद के आधार पर सोचें अथवा स्वास्थ्य के आधार पर इस एक पोस्ट में दे पाना सम्भव नहीं है इसलिये अगली पोस्ट में हम किन-किन शारीरिक समस्याओं के समाधान में आँवले का किस प्रकार उपयोग किया जा सकता है यह जानकारी जो न सिर्फ आपके बल्कि आपके परिजनों की भी छोटी-बडी कुछ शारीरिक मानसिक समस्याओं का समाधान करने में सहायक हो सकती है, आपसे शेअर करने का प्रयास कर रहे हैं । कृपया उसे अवश्य देखें…

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.