आंवला के स्वादिष्ट दीर्घकालिक उपयोग

कैसे बनाएं आंवले की गटागट

जैसा कि हम जानते हैं कि आंवला लिमिटेड मौसम में ही मिलता है और स्वाद में तूरा लगने के कारण हमारे शरीर के लिये अमृततुल्य होने के बाद भी ज्यादा उपयोग में नहीं आ पाता इसलिये हम यहाँ नियमित उपयोग में आते रहने योग्य आंवले के कुछ ऐसे स्वादिष्ट प्रयोग बता रहे हैं जिनके द्वारा आप वर्ष भर आंवले का उपयोग अपने दैनंदिनी जीवन में करते हुए अपने व अपने परिवारजनों के शरीर स्वास्थ्य को संतुलित बनाये रख सकते हैं । इसी क्रम में पहले प्रस्तुत है-

आंवला गटागट कैसे बनाएं

300 ग्राम आंवले धोकर उबाल लें व उनकी कलियां निकालकर उन्हें मिक्सर ग्राईन्डर में पीस लें । आंवला मिश्रण को आंच पर धीमे से मध्यम आंच में लगभग 10 मिनिट पकाते हुए एक कप गुड मिलाकर पिघला लें ।

एक टीस्पून (चाय के चम्मच भर) जीरा व एक टीस्पून अजवायन लेकर उन्हें भून लें व पीसकर आधा चम्मच हींग पिसकर मिला लें । अब आधा चम्मच काला नमक, आधा चम्मच सादा नमक, आधा चम्मच सूखा अदरक पावडर आधा चम्मच काली मिर्च पावडर मिलाकर मिश्रण को  भूनते हुए अंत में 100 ग्राम पिसा अमचूर पाउडर मिलावें । थोडा और सिक जाने पर आधे नींबू का रस इसमें मिला दें व आंच मध्यम करके फिर पकाना प्रारम्भ करे ।

Click & Read Also-

मिलिये क्रोध के खानदान से… 

चिकित्सा में उपयोगी – रोगों में मददगार आंवला… 

पूरा सिक जाने पर ये मिश्रण कडाही छोडते हुए दिखेगा । इस स्थिति में इसे 10-12 मिनिट ठण्डा कर अपनी हथेली में पिसी शक्कर लगाते हुए अपनी मनपसन्द साईज में गोलियां बना लें व सब गटागट बनाने के बाद इसे पिसी शक्कर में ही लपेटकर कांच की एक शीशी में सम्हालकर फ्रीज में रख लें ।

गोलियां बनाते समय कृपया मिश्रण में पानी न लगायें । इस तरह बनाये व सम्हाले हुए गटागट को आप पूरे वर्ष रोजाना खा सकते हैं ।

ध्यान दें इस घरेलू आंवला गटागट में आंवले की गुणवत्ता तो हमारे शरीर को मिल ही रही है साथ ही इसमें डलने वाले सभी घटक जैसे जीरा, अजवायन, हींग, काली मिर्च, अदरक या सौंठ व गुड ये सभी हमारे शरीर को भिन्न-भिन्न तरीके से निरन्तर लाभ पहुँचाते हैं । इसलिये स्वाद व स्वास्थ्य के संगम के रुप में आप ये आंवला गटागट अवश्य बनाकर रखें व वर्ष भर अपने परिजनों सहित इनके स्वादिष्ट स्वरुप में स्वास्थ्य लाभ अवश्य लें ।

स्वादिष्ट आंवला केंडी बनाएं

500 ग्राम आंवले धोकर व उबालकर नर्म होने पर इसकी कलियां निकाल लें । अब इसमें बराबर की शक्कर मिलाकर इन्हें कांच की शीशी में तीन दिन के लिये रख दें । तीन दिन बाद सारी शक्कर पिघलकर सभी आंवला कलियों में अच्छी तरह मिक्स हो जावेगी ।

तीन दिन बाद इसमें से शक्कर की अतिरिक्त चाशनी निकालकर बाकि सभी कलियों को एक दिन के लिये धूप में रख दें व एक दिन बाद इस केंडी में पिसी शक्कर का बूरा लपेटकर इन्हें स्टोर करलें व रोजाना इसका सेवन करें ।

आंवला मिश्रीत शक्कर की ये बची चाशनी भी खराब नहीं होगी आप इसे भी एक-दो चम्मच सादे पानी में मिलाकर पीकर उपयोग में ले सकते हैं ।

बच्चों को भी ये केंडी बहुत पसन्द आयेगी और यदि आप उन्हें प्रेरित कर पाये तो बाजार की हानिकारक टॉफियों के स्थान पर वे इन स्वादिष्ट आंवला केंडी को रोजाना खाना पसन्द कर सकेंगे ।

आंवला कैंडी कैसे बनाएँ

चटपटी नमकीन आंवला केंडी बनाएं

300 ग्राम बडे आंवले उबालकर उनकी कलियां निकाल लें ।

अजवायन 1 चम्मच, जीरा 1 चम्मच, काली मिर्च आधा चम्मच, सौंठ पावडर 1 चम्मच, काला व सादा नमक एक-एक चम्मच से थोडा कम मात्रा में लें । काली मिर्च, जीरा व अजवायन को हल्का भून लें खुशबू आने पर ठंडा करके इसे पिस लें व इसमें सौंठ पावडर व दोनों नमक मिलाकर अच्छे से मिक्स कर लें ।

अब आंवले की कलियों को एक बडे बरतन में लेकर इस मसाला पावडर को चम्मच की मदद से मिक्स कर 10-15 मिनिटे के लिये रख दें । अब इस मसाला केंडी को दो दिन धूप में रखकर स्टोर कर लें व कांच की शीशी में सम्हालकर रखते हुए आवश्यकतानुसार इसका इस्तेमाल करें ।

Click & Read Also-

 जीवन का टॉनिक है – दोस्ती…

स्वस्थ जीवन के लिये मैथुन-सुख का महत्व… 

 सामान्य शारीरिक समस्या के-तात्कालिक राहत उपचार 

यदि हम आंवले की उपलब्धि के मौसम में थोडी सी खटपट कर आंवले को इस प्रकार संग्रहित करले तो पूरे वर्ष भर इनका स्वादिष्ट स्वरुप में पर्याप्त लाभ ले सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.